February 4, 2018

जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए आचार्य चाणक्य के 10 रहस्यमयी अनमोल विचार


आचार्य चाणक्य भारतीय इतिहास के सर्वाधिक लोकप्रिय कुटनीतिज्ञ माने जाते है। महान मौर्य वंश की स्थापना का श्रेय चाणक्य को ही जाता है। अपने गूढ़ स्वभाव के कारण वे ‘कौटिल्य’ नाम से भी जाने जाते है। उनका एक नाम ‘विष्णुगुप्त’ भी था। कौटिल्य एक विद्वान तथा दूरदर्शी थे और अर्थशास्त्र, राजनीति और कूटनीति के आचार्य थे।

आज के इस आर्टिकल में आपके सामने प्रस्तुत है आचार्य चाणक्य के बहुत ही प्रेरणादायक अनमोल विचार जो आपको सफलता के पथ पर मार्गदर्शन करेगी। पसंद आये तो शेयर जरूर कीजिएगा। 

1. एक बार यदि आपने कोई काम करना शुरू कर दिया, तो असफलता से मत डरिये। जो लोग इमानदारी से काम करते है वे हमेशा खुश होते है।

2. दूसरों की गलतियों से सीखो,अपने ही ऊपर प्रयोग करके सिखने को तुम्हारी आयु कम पड़ेगी।

3. जैसे ही भय आपके करीब आये, उस पर आक्रमण कर उसे नष्ट कर दीजिये।

4. फूलों की सुगंध केवल वायु की दिशा में फैलती है. लेकिन एक व्यक्ति की अच्छाई हर दिशा में फैलती है।

5. कोई भी काम शुरू करने से पहले, स्वयम से तीन प्रश्न कीजिये – मै ये क्यों कर रहा हु, इसके परिणाम क्या हो सकते है और क्या मै सफल होऊंगा और जब गहराई से सोचने पर इन प्रश्नों के संतोषजनक उत्तर मिल जाये तभी आगे बढ़ना बढिये।

6. इस बात को कभी व्यक्त मत होने दीजिये कि आपने क्या करने के लिए सोचा है, बुद्धिमानी से इसे रहस्य बनाये रखिये और इस काम को करने के लिए दृढ़ रहिये।

7. सिंह की तरह बनो, जो भी करना है, जोरदार तरीके से करना और दिल लगाकर करना। अपने कार्य की शीघ्र सिद्धि चाहने वाला व्यक्ति नक्षत्रों की परीक्षा नहीं करता।

8. जो जिस कार्ये में कुशल हो उसे उसी कार्ये में लगना चाहिए। नीतिवान पुरुष कार्य प्रारम्भ करने से पूर्व ही देश-काल की परीक्षा कर लेते है।

9. वो जिसका ज्ञान बस किताबों तक सीमित है और जिसका धन दूसरों के कब्ज़े मैं है, वो ज़रुरत पड़ने पर ना अपना ज्ञान प्रयोग कर सकता है ना धन।

10. बिना प्रयत्न किए धन प्राप्ति की इच्छा करना बालू में से तेल निकालने के समान है।

No comments:

Post a Comment