April 27, 2018

चाणक्य नीति: पैसों से भी बड़ा धन ये है, एक बार जरूर पढ़ें


दोस्तों धन एक ऐसी चीज है जिसके लिए हर घर मे लड़ाई झगड़े होते रहते हैं और जो व्यक्ति मजबूत होता है वही जीत पाता है। धन इंसान के आंखों पर पर्दा डाल देता है जिसके चलते सारे रिश्ते नाते खत्म हो जाते हैं और कोई भी इंसान इसके लिए कुछ भी करने को तैयार हो जाता है। लेकिन आपको बता दूं कि इस दुनिया मे सिर्फ धन ही सब कुछ नही है बल्कि और भी बहुत कुछ है जो धन से भी ज्यादा कीमती है। दोस्तों आज के इस पोस्ट में मैं आपको ये बताऊंगा की इस दुनिया मे पैसों से भी बढ़ कर एक धन है जिसे खरीदा नही जा सकता। तो आइए जानते हैं।

दोस्तों आचार्य चाणक्य कहते हैं कि इस दुनिया मे पैसों से भी बड़ा धन अगर कुछ है तो वो है संतोष। जी हां इंसान के अंदर यदि सन्तोष नही तो कुछ भी नही। अर्थात यदि आपके पास लाखों रुपये भी हैं और आपके अंदर जरा भी सब्र और संतोष नही तो सब बेकार है। सब्र एक ऐसी चीज है जिसे खरीदा नही जा सकता बल्कि इसे खुद के अंदर से ही व्यक्त करना पड़ता है।

दोस्तों मुझे उम्मीद है आप समझ गए होंगे। और मेरा यह आर्टिकल आपको कैसा लगा मुझे कमेंट में जरूर बताइएगा अच्छा लगा हो तो सोशल मीडिया के जरिए शेयर जरूर कीजिएगा। शुक्रिया।

No comments:

Post a Comment