April 22, 2018

बेवफाई शायरी | बेवफा शायरी | bewafa shayari in Hindi


Read Bewafa Shayari in Hindi, New & Best Bewafa Shayari with image, Bewafa Shayari facebook whatsapp status, Latest Bewafa Shayari in hindi font, Top Bewafa Shayari of 2018.
हमें न मोहब्बत मिली न प्यार मिला,
हम को जो भी मिला बेवफा यार मिला,
अपनी तो बन गई तमाशा ज़िन्दगी,
हर कोई अपने मकसद का तलबगार मिला।
मैंने प्यार किया बड़े होश के साथ,
मैंने प्यार किया बड़े जोश के साथ,
पर हम अब प्यार करेंगे बड़ी सोच के साथ,
क्योंकि कल उसे देखा मैंने किसी और के साथ। 
कहती है दुनिया जिसे प्यार, नशा है, खताह है,
हमने भी किया है प्यार, इसलिए हमे भी पता है,
मिलती है थोड़ी खुशियाँ ज्यादा गम,
पर इसमें ठोकर खाने का भी कुछ अलग ही मज़ा है। 
उन्होंने जो किया ये शायद उनकी फितरत है,
अपने लिये तो प्यार एक इबादत है,
न मिले उनसे तो मरकर बता देंगे,
कि कितनी मुहब्बत है इस दिल में।
प्यार किया था तो प्यार का अंजाम कहाँ मालूम था,
वफ़ा के बदले मिलेगी बेवफाई कहाँ मालूम था,
सोचा था तैर के पार कर लेंगे प्यार के दरिया को,
पर बीच दरिया मिल जायेगा भंवर कहाँ मालूम था। 
शायरी नहीं आती मुझे बस हाले दिल सुना रही हूँ,
बेवफ़ाई का इलज़ाम है, मुझपर फिर भी गुनगुना रही हूँ,
क़त्ल करने वाले ने कातिल भी हमें ही बना दिया,
खफ़ा नहीं उससे फिर भी मैं बस, उसका दामन बचा रही हूँ।
अगर दुनिया में जीने की चाहत ना होती,
तो खुदा ने मोहब्बत बनाई ना होती,
लोग मरने की आरज़ू ना करते,
अगर मोहब्बत में बेवाफ़ाई ना होती। 
जानकार भी तुम मुझे जान ना पाए,
आजतक तुम मुझे पहचान ना पाए,
खुद ही की है बेवाफाई तुमने,
ताकि तुम पर इल्ज़ाम ना आए। 
पल पल उसका साथ निभाते हम,
एक इशारे पर दुनिया छोड़ जाते हम,
समुन्दर के बीच में पहुंचकर फरेब किया उसने,
वो कहता तो किनारे पर ही डूब जाते हम।
वो छोड़ के गए हमें..
न जाने उनकी क्या मजबूरी थी,
खुदा ने कहा इसमें उनका कोई कसूर नहीं,
ये कहानी तो मैंने लिखी ही अधूरी थी।
प्यार में बेवाफाई मिले तो गम न करना,
अपनी आँखे किसी के लिए नम न करना,
वो चाहे लाख नफरते करें तुमसे,
पर तुम अपना प्यार कभी उसके लिए कम न करना।
तेरी दोस्ती ने दिया सकूं इतना,
की तेरे बाद कोई अच्छा न लगे,
तुझे करनी है बेवफ़ाई तो इस अदा से कर,
कि तेरे बाद कोई भी बेवफ़ा न लगे। 
वो तो दिवानी थी मुझे तन्हां छोड़ गई,
खुद न रुकी तो अपना साया छोड़ गई,
दुख न सही गम इस बात का है,
आंखो से करके वादा होंठो से तोड़ गई।
आग दिल में लगी जब वो खफ़ा हुए,
महसूस हुआ तब, जब वो जुदा हुए,
करके वफ़ा कुछ दे ना सके वो,
पर बहुत कुछ दे गए जब वो बेवफ़ा हुए।

No comments:

Post a Comment