June 4, 2018

Jitna Tumhe Chaha - Bewafa Shayari

Love Bewafa Sad Shayari In Hindi

रात की गहराई आँखों में उतर आई कुछ ख्वाब थे और कुछ मेरी तन्हाई ये जो पलकों से बह रहे हैं हल्के हल्के कुछ तो मजबूरी थी कुछ तेरी बेवफाई।
किसी को टूट कर चाहना और फिर खुद ही टूट जाना बात तो छोटी सी है मगर जान निकल जाती है साहेब।

जितना तुमने समझा उतनी दूर नहीं थे हम टूट गए थे लेकिन चकनाचूर नहीं थे हम क्या हो जाता तुमने मुड़कर "देख" लिया होता शायद तुमको दिल से ही "मंजूर" नहीं थे हम।

किस किस से वफा के बदे कर रखे है तूने सनम हर रोज एक नया सख्स मुझसे तेरा नाम पूछता है।

मुझको ढूंढ लेती है रोज़ एक नए बहाने से बेवफा तेरी याद वाक़िफ़ हो गयी है मेरे हर ठिकाने से।

चेहरे अजनबी हो जाये तो कोई बात नही लेकिन अगर रवैये अजनबी हो जाये तो बडा दर्द होता है साहेब।


हर भूल तेरी माफ़ की हमने हर एक खता को तेरी भुला दिया हमने मगर गम है तो इस बात का की मेरे प्यार का तूने बेवफा बनके सिला दिया।

मैंने सुना है लोगो के मुह से की ख़ुदकुशी करना हराम है साहब मेरी बात मानो तो इश्क़ कर लो। 

किसी के दिल का दर्द किसने देखा है, देखा है तो सिर्फ चेहरा देखा है, दर्द तो तन्हाई मे होता है, लेकिन तन्हाइयो मे लोगों ने हमे हँसते हुए देखा है।

ना हम रहे दिल लगाने के क़ाबिल ना हमारा दिल रहा गम उठाने के क़ाबिल लगा उसकी यादों से जो ज़ख़्म हमारे दिल पर ना छोड़ा उसने यारो हमे मुस्कुराने के क़ाबिल।

जो नजर से गुजर जाया करते हैं. वो सितारे अक्सर टूट जाया करते हैं, कुछ लोग दर्द को बयां नहीं होने देते बस चुपचाप बिखर जाया करते हैं।

जिस किसी को भी चाहो वो बेवफा हो जाता है.. सर अगर झुकाओ तो सनम खुदा हो जाता है, जब तक काम आते रहो हमसफ़र कहलाते रहो काम निकल जाने पर हमसफ़र कोई दूसरा हो जाता है।
ये बेवफा, वफा की कीमत क्या जाने ये बेवफा गम-ए-मोहब्बत क्या जाने जिन्हे मिलता है.. हर मोड पर नया हमसफर वो भला प्यार की कीमत क्या जाने।

No comments:

Post a Comment