LolBabu.in - Whatsapp Status in Hindi

पाए नए व्हात्सप्प हिंदी स्टेटस, शायरी, स्लोगन्स और भारतीय त्योहारों के मैसेज, फ़ोटो और शुभकामनाएं सन्देश वो भी अपनी मनपसंद भाषा हिंदी में.

December 21, 2018

Happy Winter Status for Whatsapp & Facebook In Hindi

Read And Share Status on Winter (ठंड पर स्टेटस), Sardi Pr Status (सर्दी पर स्टेटस), Jaade Par Status (जाड़े पर स्टेटस) और Status on Thund (ठंड पर स्टेटस), Funny Winter Status in Hindi (फनी विंटर स्टेटस हिंदी में), Cute Winter Status (क्यूट विंटर स्टेटस). 

Happy Winter Status for Whatsapp & Facebook in Hindi

Happy Winter Status for Whatsapp & Facebook In Hindi
Happy Winter

हर कामयाबी पर आपका नाम हो,
आपके हर क़दम पर सफलता का मुकाम हो,
ध्यान रखना, ठण्ड आ गयी हैं,
मैं नही चाहता आपको जुकाम हो.

ना मुस्कुराने को जी चाहता हैं,
ना कुछ खाने-पीने को जी चाहता हैं,
अब ठंड बर्दास्त नही होती,
सब कुछ छोडकर रजाई में घुस जाने को जी चाहता हैं. 

इस बरसाती ठण्ड के मौसम में
रजाई के अंदर रहना ही श्रेष्ठ कर्म है..
और टमाटर की चटनी के साथ पकोड़े,
चाय मिलना मोक्ष की प्राप्ति. 
.
फूलों की सुगंध, मूँगफली की बहार..
सर्दी का मौसम आने को तैयार..
रजाई, स्वेटर रखो तैयार..
हैप्पी सर्दी का मौसम मेरे यार.

कितना दर्द हैं दिल में दिखाया नही जाता,
गंभीर हैं किस्सा सुनाया नही जाता,
विडियो कॉल मत कर पगली,
रजाई में से मुहँ निकाला नही जाता.

अपना समझो या बेगाना,
हमारा आपका हैं रिश्ता पुराना,
इसलिए मेरा फ़र्ज हैं आपको बताना,
ठंड आ गयी हैं,
कृपया रोज मत नहाना.

जब भी विंटर सीजन आती हैं,
कसम से तेरी याद बहुत आती हैं,
दिल सोचता है मेरा बार-बार,
मेरा इनर कब लौटाओगे यार. 

क्यूँ किसी की यादों को सोच कर रोया जाए,
क्यूँ किसी के ख्यालों में यूँ खोया जाए,
बाहर मौसम बहुत ख़राब हैं,
क्यूँ न रजाई तानकर सोया जाए.

बड़ी बेवफ़ा हो जाती है ग़ालिब,
ये घड़ी भी सर्दियों में,
5 मिनट और सोने की सोचो तो,
30 मिनट आगे बढ़ जाती है. 

जीवन में एक बात याद रखना कि
आँसू पोछने वाले हजारो मिलेंगे पर,
नाक पोछने कोई नहीं आता,
ठंड आ गई हैं अपना ध्यान रखना.

आ जा अभी सर्दी का मौसम नही गुजरा,
पहाड़ो में अभी भी बर्फ जमी है,
सब कुछ है मेरे पास मगर,
सिर्फ इक तेरी ही कमी है. 

तमाम राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय समस्याओं के बीच
मेरी छोटी सी लोकल समस्या..
सारी रात गुज़र जाती है इसी कश्मकश में
ये हवा कहां से घुस जाती है रजाई में. 

No comments:

Post a Comment