July 2, 2018

दोस्ती शायरी - Dosti Shayari in Hindi - हिंदी शायरी


दोस्ती में किसी का इम्तिहान न लेना,
निभा न सको वो किसी को वादा न देना,
जिसे तुम बिन जीने की आदत न हो,
उसे जिन्दगी जीने की दुआ न देना।

हमें कोई बुलाये या ना बुलाये, हम सबको बुलाते है..
हमें कोई चाहे या ना चाहे, हम सबको चाहते है..
हमें कोई दोस्त बनाये या ना बनाये पर हम सबको अपना दोस्त बनाते है। 

दोस्त को दोस्त का इशारा याद रहता है,
हर दोस्त को अपना दोस्ताना याद रहता है,
कुछ पल सच्चे दोस्त के साथ गुजारो तो सही,
वो अफ़साना मौत तक याद रहता है।

दोस्ती करो तो हमेशा मुस्करा कर,
किसी को धोखा ना दो अपना बनाकर कर,
कर लो याद जब तक हम ज़िंदा है,
फिर ना कहना चले गए हम दिल में यादें बसा कर।

दोस्ती इम्तिहान नहीं विश्वास माँगती है ,
ज़िन्दगी अपने लिए कुछ भी नहीं, पर दोस्तों के लिए दुआ हज़ार माँगती है।

वो दोस्त मेरी नज़र में बहुत ‘माईने’ रखते है,
जो वक़्त आने पर मेरे सामने ‘आईने’ रखते है।

जिगरी दोस्ती वो थी…
जब मेरे दोस्त ने मुझे गले लगा कर कहा था कि
दौलत भी है, शौहरत भी है और इज़्ज़त भी है
पर तेरे बिना ये सब बेकार है।

सफ़र दोस्ती का कभी ख़त्म न होगा,
दोस्तों मेरा प्यार कभी कम न होगा,
दूर रहकर भी रहेगी महक इसकी,
हमें कभी बिछड़ने का ग़म न होगा।

न जाने किस मिट्टी से भगवान ने तुमको बनाया है,
अनजाने में इक ख्वाब इन आँखों को दिखाया है,
मेरी हसरत थी हमेशा से खुदा से मिलने की दोस्त,
शायद इसीलिये किस्मत ने मुझे तुमसे मिलाया है।

काश वो पल साथ बिताए ना होते,
तो आँखों में ये आँसू आए ना होते,
जिनसे रहा ना जाए एक पल भी दूर,
काश ऐसे प्यारे दोस्त बनाए ना होते।

सबकी जिंदगी में खुशियाँ देने वाले दोस्त,
तेरी जिंदगी में कोई गम ना हो,
तुझे तब भी दोस्त मिलते रहें अच्छे अच्छे,
जब इस दुनिया में हम ना हो।

बरसों बाद न जाने क्या समां होगा,
हमसब दोस्तों में न जानें कौन कहाँ होगा,
अगर मिलना हुआ तो मिलेंगें ख्वाबों में,
जैसे सूखे हुये गुलाब मिलते हैं किताबों में।

खुशबू की तरह मेरी सांसों में रहना,
लहू बनके मेरे आँसुओं में बहना,
दोस्ती होती है रिश्तों का अनमोल गहना,
इसीलिए दोस्त को कभी अलविदा न कहना।

मेरी दोस्ती का हिसाब जो लगाओगे
तो मेरी दोस्ती को बेहिसाब पाओगे,
पानी के बुलबुलों की तरह है हमारी दोस्ती,
अगर जरा सी ठेस पहुँची तो ढूंढ़ते रह जाओगे।

कही अँधेरा तो कहीं शाम होगी,
मेरी हर ख़ुशी आपके नाम होगी,
कुछ माँग कर तो देखो...दोस्त...
होंठों पर हँसी और हथेली पर मेरी जान होगी।

दोस्ती वो नहीं जो जान देती है,
दोस्ती वो भी नहीं जो मुस्कान देती है,
अरे सच्ची दोस्ती तो वो है..
जो पानी में गिरा हुआ आंसू भी पहचान लेती है।

हमारे तो दामन में काँटों के सिवा कुछ नही है
आप तो फूलो के खरीददार नजर आते है
जहान में कितने दोस्त मिले हमे
पर सबसे अच्छे आप नजर आते है।

अगर इतनी प्यारी सोच आपकी ना होती,
मुलाकात आपसे हमारी ना होती,
तड़पते रहते ऐसे दोस्त के लिए,
अगर यारी आपसे हमारी ना होती। 

दोस्ती इम्तिहान नही विश्वास मांगती है,
नज़र और कुछ नही दोस्त का दीदार मांगती है,
ज़िंदगी अपने लिए कुछ नही पर आपके लिए,
दुआ हज़ार मांगती है।

No comments:

Post a Comment