May 22, 2018

अपनी ज़िंदगी की हर शाम तेरे नाम कर दू - शायरी

love shayari in hindi

करेंगे तुमसे हम वफ़ा हर घड़ी,
कभी शिकायत का मौका न देंगे,
हँसते-हँसते गुज़रेंगे ज़िंदगी का हर लम्हा,
कभी रूठने का मौका न देंगे।
कितने अजीज़ हो आप बताये कैसे,
हमारी सादगी आपको दिखाए कैसे,
आप तो अनमोल हो हमारे लिए,
चाँद लफ़्ज़ों के मैसेज में कहे कैसे। 
दिल का रिश्ता है हमारा,
दिल के कोने में नाम है तुम्हारा,
हर याद में है चेहरा तुम्हारा,
हम साथ नहीं तो क्या हुआ,
ज़िंदगी भर प्यार निभाने का वादा है हमारा।
अपनी ज़िंदगी की हर शाम तेरे नाम कर दू,
अपनी आँखों का जाम तेरे नाम कर दू,
हो जिसका जिक्र मोहब्बत की हर कहानी में,
एक ऐसा प्यार का पैगाम तेरे नाम कर दू। 
रूठकर तुम मुझे भुलाने लगे,
इतने दूर हुए के बहुत याद आने लगे,
कैसे भूले तुम्हें एक पल में जान,
जब की तुम्हें पाने के लिए मुझे जमाने लगे।
कुछ वक़्त पहले मुझे भी ज़िदगी ने आजमाया था,
किसी के साथ मैंने भी हँसता हुआ पल बिताया था,
रोता हुआ छोड़ गए,
क्या हुआ हँसना उसी ने सिखाया था।
पाकर तुम्हें सपने सच लगने लगे,
अजनबी से थे जो कभी आज अपने लगने लगे,
होता नहीं यकीन खुद की किस्मत पर,
धड़कनो में बस कर वो अब हमारी जान लगने लगे।
रोज़ आधी रात को कोई सपना आ जाता है,
फिर सोना मुश्किल हो जाता है,
रब की कसम मैंने प्यार नहीं किया,
प्यार तो अपने आप हो जाता है। 
हजारो गम है सीने में मगर शिकवा करे किस से,
इधर दिल है तो अपना उधर तुम हो तो अपने।
तुम मानो या न मानो हम याद करेंगे,
तुम समझो न समझो हम ऐतबार करेंगे,
मैंने सच्ची मोहब्बत की हैं तुमसे,
तुम आओ या न आओ हम इंतज़ार करेंगे। 
अब भी मांग रही हैं आँखें खुदा से उसी का दिदार,
जिसने हवा की तरह उड़ा दिया दिल से हमारी मुहब्बत को।
ज़िंदगी हमसे दगा कर रही है,
वरना हम भी जीते ज़िंदगी के लिए,
ज़िंदगी हमारा दिल तोड़ रही है,
और मौत हमसे दिल लगा रही है। 

No comments:

Post a Comment