January 15, 2018

काॅमेडी लेजेंड 'जॉनी लीवर' से जुड़ी रोचक बातें

आज के समय में कोई भी फिल्म हो अगर उसमे कॉमेडी ना हो तो कोई भी नहीं देखता, फिर चाहे कोई भी भाषा में फिल्म क्यों ना हो, आज हम आपको जॉनी लीवर के बारे में कुछ ऐसी बातें बताने वाले है जो आपने पहले कभी भी जानी नहीं होंगी। 



जॉनी लीवर से जुडी रोचक बातें


➧ जॉनी का जन्म 14 अगस्त साल 1957 को तेलुगू क्रिश्चियन परिवार में आंध्रप्रदेश में हुआ था।

➧ जॉनी के पिता का नाम प्रकाश राव है, जॉनी फिल्म की दुनिया में आने से पहले हिन्दुस्तान लीवर लिमिटेड में एक ऑपरेटर के तौर पर काम किया करते थे।

➧ हिंदुस्तान लीवर लिमिटेड में काम करने के दौरान जॉनी कुछ सीनियर्स की मिमिक्री भी किया करते थे। वह फिल्म स्टारों को कॉपी कर उन्हीं के अंदाज में एक्टिंग भी कर लिया करते थे और लोगों को हंसाते थे।

➧ क्या आप जानते है की जॉनी ने सिर्फ सातवीं तक पढ़ाई करने के बाद स्कूल छोड़ दिया और मुबंई की सड़कों पर पेन बेचने और बॉलीवुड गानों पर डांस करने का काम करते थे।
➧ जॉनी एक बार मिमिक्री से जुड़ा स्टेज शो कर रहे थे तब वहां सुनील दत्त भी मौजूद थे। उनकी नजर जॉनी पर पड़ी और दत्त को उनका टैलेंट और मिमिक्री करने का स्टाइल काफी ज्यादा पसंद आया। जिसके बाद जॉनी लीवर को फिल्म 'दर्द का रिश्ता' में काम करने का मौका मिला।

➧ फिल्म 'दर्द का रिश्ता' के बाद जॉनी को फिल्म इंडस्ट्री में काफी बड़ा संघर्ष करना पड़ा था। बॉलीवुड में पहचान दिलाने का काम शाहरुख खान, काजोल और शिल्पा शेट्टी की फिल्म 'बाजीगर' ने किया जिसके बाद उन्होंने कभी भी पीछे मुड़कर नहीं देखा।

➧ क्या आपको पता है की जॉनी लीवर फिल्म इंडस्ट्री में 300 से ज्यादा फिल्मों में काम कर चुके हैं।

➧ जॉनी लीवर बेशक बहुत से सेलिब्रिटीज की मिमिक्री आसानी से कर सकते हैं लेकिन इसके बावजूद उनका एक अलग स्टाइल है जो उन्हें काफी यूनीक बनाता है।

➧ साल 2007 में जॉनी अपना एक शो 'जॉनी आला रे' जी टीवी पर लेकर आए थे। तब वो कॉमेडी शो 'कॉमेडी सर्कस' में भी जॉनी जज की भूमिका निभा चुके हैं।

➧ क्या आप जानते है की 8 दिसंबर 1998 को जॉनी लीवर को राष्ट्रीय गान और भारतीय संविधान का अपमान करने के लिए सात दिन की जेल हुई थी पर बाद में उन्हें सभी आरोपों से बरी कर दिया गया था।

आपको ये जानकारी कैसी लगी हमें ज़रूर बताएं। अगर आपके पास भी ऐसे रोचक आर्टिकल है तो हमारे Email id - lolbabuofficial@gmail.com पर जरूर भेजें। आर्टिकल पसंद आने पर हम उसे यहां अवश्य पब्लिश करेंगे। धन्यवाद।

No comments:

Post a Comment