January 25, 2018

हर गलती कुछ कहती है - Interesting Story


कहते हैं इंसान गलतियों का पुतला होता है। जीवन में गलतियां होना स्वाभाविक है, गलतियां करना सीखने की प्रक्रिया का एक अनिवार्य हिस्सा है। मैनेजमेंट की भाषा में इसे ही ट्रायल एंड एरर मैथेड कहते हैं। गलतियां समस्या तब बन जाती हैं जब हम गलतियों से कोई सबक न लेकर अपनी गलतियों को जस्टिफाई करने की कोशिश करने लगते हैं एवं दूसरों से उन्हें छिपाने के क्रम में और गलतियां करते चले जाते हैं।

जब मैने अपनी प्राइमरी क्लासेज में पहले-पहल पेसिंल के स्थान पर पेन का प्रयोग करना शुरू किया, तब मैं लिखने में अनेक गलतियां करता था, उस समय मैं अपने काम को अपने टीचर को सबमिट करने से पहले उन्हें मिटा देने की कोशिश करता था।

कभी-कभी मैं अपनी गलती को साफ करने के लिए चाक का उपयोग करता था लेकिन एेसा करने पर कुछ देर बाद गलतियां फिर से दिखाई देने लगतीं थीं फिर मैंनें लार का उपयोग करना शुरू कर दिया, इस आइडिया नें काम किया, लेकिन केवल मेरी कापियों के पन्नों में छेद छोड़ने के लिए। मेरे शिक्षक मेरा काम गंदा होने के कारण अक्सर मुझे डांटा भी करते थे। लेकिन इन सब बातों से बेखबर मैं अपनी गलतियों को छिपाने की कोशिश में लगा रहता था।

यह सिलसिला शायद लंबा चलता यदि एक दिन मेरी मुलाकत उदार ह्रदय वाले उन शिक्षक से नहीं होती जिन्होनें मुझे गलतियों के प्रति एक नजरिया दिया। इन शिक्षक महोदय ने जब मेरी कापियों को देखा तब मुझे अपने पास बुलाकर प्यार से समझाते हुए कहा कि बेटा जब कभी तुमसे कोई गलती हो जाए तो बस उसे काटो और आगे बढ़ जाओ।

अपनी बात को समझाते हुए उन्होनें आगे कहा कि अपनी गलतियों को मिटाने की कोशिश करने से कुछ नहीं होगा बस केवल तुम्हारी नोटबुक को नुकसान पहुंचेगा। मैंने उनकी बात का विरोध किया और कहा कि मैं नहीं चाहता कि लोग मेरी गलतियों को देखें। मेरी बात को सुनकर मेरे शिक्षक हँसने लगे और बोले कि जब तुम अपनी गलती को मिटाने की कोशिश करते हो तो पहले से ज्यादा लोगों को तुम्हारी गड़बड़ियों और धब्बों का पता चल जाता है।

क्या आपने जीवन में कुछ गलतियां की हैं? यदि की हैं तो अपने जीवन से उन्हें मिटाने की कोशिश मत कीजिए बस उन्हें काटिये और आगे बढ़िये।

जब आप अपनी गलतियों को कवर करने का प्रयास करते हैं तब आप दूसरी गलती करते हैं और उस गलती को छिपाने के क्रम में तीसरी गलती इस प्रकार हम गलतियां करते चले जाते हैं जिसके परिणामस्वरूप हम स्वयं को दूसरों की नजरों में और अधिक एक्सपोज और बेनकाब करते चले जाते हैं।

गलतियां करना उतना बुरा नहीं है जितना कि उनसे सबक न लेकर उन्हें दोहराते रहना है। यह भी सत्य है कि गलतियां भी आपको सही दिशा दिखातीं हैं। हर गलती एक अवसर होती है सुधार का। यह बात समझने की है कि मंजिलें कभी-कभी रास्ते बदलने से नहीं बल्कि तरीके बदलने से मिल जाती है।

आपको यह आर्टिकल अच्छी लगे तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करे। अगर आप भी अपना आर्टिकल यहां पब्लिश करना चाहते है तो अपना आर्टिकल हमारे Email Id - lolbabuofficial@gmail.com पर भेजें। पसंद आने पर हम उसे यहां अवश्य पब्लिश करेंगे। धन्यवाद। आपके कमेंट का इंतजार रहेगा।

No comments:

Post a Comment